टेक्नोलॉजीदेशराजनीति

Hiren Joshi: कौन हैं डिजिटल दुनिया में मोदी की मौजूदगी को स्थापित करने का श्रेय पाने वाले हिरेन जोशी?

Hiren Joshi: हिरेन जोशी एक टेक्नोक्रेट हैं जो वर्तमान में भारतीय प्रधानमंत्री कार्यालय में विशेष कर्तव्य अधिकारी (आईटी) के पद पर स्थापित हैं। हिरेन जोशी का गृह राज्य गुजरात है। वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफी करीबी मानें जाते हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आरोप के बाद इस समय वो मीडिया के चर्चों में हैं।

हिरेन जोशी (Hiren Joshi)

आपको बताएं भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी और प्रबंधन संस्थान (Indian Institute of Information Technology & Management) से पीएचडी की डिग्री के साथ इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग करने के बाद हिरेन जोशी (Hiren Joshi) पीएमओ में जाने से पहले 2008 में मोदी की टीम में शामिल हुए।

Hiren Joshi: कौन हैं डिजिटल दुनिया में मोदी की मौजूदगी को स्थापित करने का श्रेय पाने वाले हिरेन जोशी?

डिजिटल दुनिया में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी को स्थापित करने का श्रेय कम महत्वपूर्ण अधिकारी को दिया जाता है जिसमे हिरेन जोशी का नाम सबसे उपर है। वह कथित तौर पर पीएम के सोशल मीडिया अकाउंट्स को मैनेज करता है, जिसमें विदेशी भाषाओं में ट्वीट, वेबसाइट और विभिन्न ऐप शामिल हैं।

आपको बताएं हिरेन जोशी नरेंद्र मोदी के सभी सोशल मीडिया हैंडल जैसे फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, ब्लॉग और वेबसाइटों का प्रबंधन करता है। भले ही अमित मालवीय बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख हैं, फिर भी हिरेन जोशी ही नरेंद्र मोदी के सोशल मीडिया अकाउंट्स को मैनेज करने वाले इकलौते व्यक्ति हैं।

Hiren Joshi: कौन हैं डिजिटल दुनिया में मोदी की मौजूदगी को स्थापित करने का श्रेय पाने वाले हिरेन जोशी?
                                            स्रोत: इंटरनेट (काल्पनिक तस्वीर) 

हिरेन जोशी वास्तव में जानते हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी को क्या पसंद है और क्या नापसंद। मोदी अलग-अलग परिस्थितियों पर कैसे प्रतिक्रिया दे सकते थे और क्या कह सकते थे, जोशी इससे वाकिफ हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हिरेन जोशी ऑनलाइन गतिविधि पर भी नजर रखता है और रात 11.30 बजे पीएम को दैनिक रिपोर्ट सौंपता है। हालांकि उनके आधिकारिक नौकरी विवरण को “भारत सरकार (व्यवसाय का आवंटन) नियम, 1961 के संदर्भ में प्रधान मंत्री को सचिवीय सहायता प्रदान करने के लिए, सूचना प्रौद्योगिकी तक सीमित नहीं बल्कि मामलों के संबंध में” के रूप में वर्णित किया गया है।

ये भी पढ़ें:

मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला, 12 जातियों को ST में शामिल किया गया, जानें

Indian CEO: दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों पर एक छत्र राज कर रहे हैं ये भारतीय मूल के CEO

उनकी डोमेन विशेषज्ञता अब तक फैली हुई है टीवी चैनलों और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की निगरानी करना, खासकर उन चैनलों की जिन्हें मोदी की नीतियों के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। वह सूचना और प्रसारण मंत्रालय और प्रेस सूचना ब्यूरो के साथ भी संपर्क करते हैं। अब वो इसी कार्य को लेकर चर्चा का विषय बनें हुए हैं।

कौन हैं हिरेन जोशी?

हिरेन जोशी पुणे के एक इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर थे। उन्होंने भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन संस्थान, ग्वालियर से पीएचडी की है। हिरेन माणिक्य लाल वर्मा टेक्सटाइल एंड इंजीनियरिंग कॉलेज, भीलवाड़ा के सहायक प्रोफेसर थे। उन्हें अध्यापन का 18 वर्ष का अनुभव है।

हिरेन जोशी (Hiren Joshi)

जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब गुजरात सरकार ने इंजीनियरों के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया था। उस कार्यक्रम के दौरान तकनीकी खराबी विकसित हुई, जहां मोदी भी मौजूद थे। जोशी ने कुछ ही मिनटों में मामले को सुलझा लिया। मोदी ने जोशी से प्रभावित होकर उन्हें मोदी के लिए सोशल मीडिया रणनीति का प्रबंधन करने के लिए नियुक्त किया।

हिरेन जोशी ने सभी बैठकों, सोशल मीडिया रणनीति, महत्वपूर्ण लोगों के जन्म और मृत्यु के विश्लेषण का अध्ययन करने के लिए रणनीति बनाने के लिए नया सॉफ्टवेयर विकसित किया है।

केजरीवाल का हिरेन जोशी पर वार

केजरीवाल ने प्रधानमंत्री कार्यालय में संचार और सूचना प्रौद्योगिकी के प्रमुख हीरेन जोशी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार ने गुजरात में कई समाचार चैनलों के मालिकों और संपादकों को आप की कवरेज न करने के लिए चेतावनी दी है। केजरीवाल ने दावा किया कि वो आप को खबरों में जगह देने के लिए चैनल मालिकों और संपादकों को “गंदी गालियां” लिखकर भेजते हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे कई संपादकों दिखा रहे थे, जिसमें बड़े बड़े चैनलों के मालिक, उनके संपादक शामिल हैं। उन्हें गंदी गन्दी गलियां लिखकर भेजे गए हैं और कहा कि केजरीवाल को दिखाया (खबर में) तो ये कर देंगे, वो कर देंगे। आम आदमी पार्टी को दिखाने की जरूरत नहीं है, आप अपने चैनल का दुरूपयोग कर रहे हो।”

उन्होंने दावा किया कि कई लोगों ने हीरेन जोशी द्वारा दी गई कथित गालियों के स्क्रीनशॉट लिए और कॉल रिकॉर्ड भी किए हैं। उन्होंने कहा, “मीडिया को धमकी देना बंद करो। क्या ऐसे देश चलाओगे? मैं आज हीरेन जोशी से कहना चाहूंगा कि आप जो धमकियां दे रहे हो, अगर किसी ने इसका स्क्रीनशॉट या कॉल रिकॉर्ड सोशल मीडिया पर डाल दिया तो आप और प्रधानमंत्री किसी को शक्ल दिखाने लायक नहीं रहोगे।” उन्होंने कहा कि इस तरह से मीडिया को धमकाना बंद करो।

ये भी पढ़ें:

मुख्य पार्षद फारबिसगंज : फारबिसगंज में समुचित विकास के लिए जरूरी है गुंजन सिंह, 6 माह के कम अवधि में किया साबित

Begusarai Firing Case: दो बाइक, 4 बदमाश, 30 किलोमीटर, बेगूसराय में हुए ‘खूनी खेल’ की पूरी कहानी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button